आध्यात्मिक राष्ट्रवाद सदस्य

गुरुवार, 15 अप्रैल 2010

हो मेरे दम से युहीं मेरे वतन की जीनत जिस तरह फूल से होती है चमन की जीनत






















लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी - 3


ज़िन्दगी शम्मा की सूरत हो, खुदाया मेरी

लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी

दूर दुनिया का मेरे दम से अँधेरा हो जाए

दूर दुनिया का मेरे दम से अँधेरा हो जाए

हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाए

हो मेरे दम से युहीं मेरे वतन की जीनत

जिस तरह फूल से होती है चमन की जीनत

ज़िन्दगी हो मेरी परवाने की सूरत या रब

इल्म की शम्मा से हो मुझको मोहब्बत या रब

हो मेरा काम ग़रीबों की हिमायत करना

दर्द मंदों से जईफों से मुहब्बत करना

मेरे अल्लाह बुरे से बचाना मुझको

नेक जो राह हो उस राह पर चलाना मुझको


लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी .....




!!! बस एक ही धुन जय-जय भारत !!!

9 टिप्‍पणियां:

  1. हो मेरे दम से युहीं मेरे वतन की जीनत

    जिस तरह फूल से होती है चमन की जीनत

    उत्तर देंहटाएं
  2. "लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी"
    यही भावना तो इसे मेरा भी प्रिय प्रार्थना-गीत बनाती है!इसे सुन कर शान्ति तो मिलती ही है,साथ में ऐसा ही गीत रचने कि प्रेरणा भी मिलती है!मै चाहता तो नहीं इतने बढ़िया माहौल में कुछ गन्दगी का जिक्र करूँ,बस बरबस ही मन तुलना करने लगा,कहाँ वो हकीम लुकमान(डॉक्टर) का इस्लाम और कहा इस्लामिक बच्ची कि ये प्रार्थना!
    आप बधाई के पात्र है इसे सार्वजनिक करने के लिए!

    जय हिंद,जय श्रीराम,
    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  3. दर्द मंदों से जईफों से मुहब्बत करना

    मेरे अल्लाह बुरे से बचाना मुझको

    ये भी कहिये
    मेरे अल्लाह बुरे से बचाना सबको

    उत्तर देंहटाएं
  4. लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी .....

    हो मेरा काम ग़रीबों की हिमायत करना

    दर्द मंदों से जईफों से मुहब्बत करना

    उत्तर देंहटाएं
  5. हो मेरे दम से युहीं मेरे वतन की जीनत जिस तरह फूल से होती है चमन की जीनत

    -- बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  6. aadrniy aadab aaj brson baa mn psnd vichaar rhne vaale saathi ka blog pdhne ko milaa tbiyt glad glad ho gyi vaastv men meraa desh meraa dhrm bs yhi antim vichaar hr bhaartiy ke honaaa chaahiye men bhi is vichaar ko jntaa tk felaakr mnvaane ki koshishon men aapka mddgaar bnna chahta hun plz yaad krte rhiye. akhtar khan akela kota rajasthan

    उत्तर देंहटाएं
  7. तेरे नाम पर दहशत फ़ैलाने वाले का भी कुछ कर अल्लाह !!!

    उत्तर देंहटाएं

अभी और बहुत-सी महान उपलब्धियां और विजयोत्सव हमारी प्रतीक्षा में हैं