आध्यात्मिक राष्ट्रवाद सदस्य

सोमवार, 22 अगस्त 2011

रामदेव हमारे लिए एक खतरा : स्विस बैंक - Ramdev is a Danger for us : Swiss Bank Association

स्विस बैंक एसोसिएशन और स्विस सरकार ने बताया है की स्विस बैंको में जमा धन में पन्द्रह लाख करोड डॉलर की भयंकर कमी आयी है .. और स्विस इकोनोमीको खतरा पैदा हो गया है .. वहा के सारे अखबारों और टीवी डिबेट में इसे "रामदेव इफेक्ट " कहा जा रहा है . 

स्विस बैंको में सबसे ज्यादा काला धनभारत से जमा होता है फिर चीन और रूस का नम्बर आता है .. बाबा रामदेव के अभियान से प्रभावित होकर चीन और रूस में भी काले धन के वापस लेन की जोरदार मुहीम चल रही है. चीन सरकार अरब देशो में हुई क्रांति से डरक रतुरंत ही एक कानून बना कर स्विस सरकार से सारा ब्योरा माँगा है और कालेधन विदेश में जमा करने वालो को मृतुदंड देने की क़ानूनी बदलाव किया है,रूस में भी पिछले कई दिनों से लोग काले धन के खिलाफ लेनिन स्क्वायर परप्रदर्शन कर रहे थे आखिरकार रुसी सरकार ने भी २ महीने में सारे काले धनको वापस लेन का देश की जनता को लिखित आश्वाशन दिया है .. 

रूस के सामाजिककार्यकर्ता और रूस में काले धन के खिलाफ आन्दोलन चला रहे बदिमिर इलिनोइचने बाबा रामदेव को प्रेरणाश्रोत मानकर अपना आन्दोलन चलाया ..स्विटरज़रलैंड के लगभग सभी अखबारों जैसे स्विस टुडे, स्विस इलेस्ट्रेटेड,और टीवी चनेलो ने बाबा रामदेव को एक "खलनायक " के रूप में बता रहे है .इधर भारत में भी कांग्रेस पार्टी और सरकार उपरी मन से चाहे जो कुछ भी कहेलेकिन उसे भी अब जनता के जागरूक होने का डर सताने लगा है . 

कांग्रेस इसदेश की टीवी चनेलो और अखबारों को तो खरीद सकती है लेकिन भारत में तेजी सेउभर रही न्यू मीडिया [ वेब पोर्टल , फेसबुक , ट्विटर ] पर चाहकर भी वो प्रतिबन्ध नहीं लगा सकती ..
 एक सर्वे में पाया गया है की इन्टरनेट परकांग्रेस के खिलाफ जोरदार अभियान चल रहा है और ये अभियान कोई पार्टी नहींचला रही है बल्कि इस देश के जागरूक और शिछित युवा चला रहे है जिनका किसीभी राजनितिक पार्टी से कोई लेना देना नहीं है ..कांग्रेस बाबा रामदेव को आर एस एस का एजेंट बताकर बाबा ने जो मुद्दे इसदेश के सामने रखे है उसे झुठला नहीं सकती .. 

बाबा रामदेव ने अपना अनसन कोई हिन्दुत्ववादी मुद्दों को लेकर नहीं किया .. असल में इस देश मेंभ्रष्टाचार से मुस्लिम समाज ज्यादा ही पीड़ित है क्योंकि अशिछा और वोटबैंक की राजनीती ने मुस्लिम समाज को हमेशा ठगा है .. कांग्रेस की शुरू से ही ये निति रही है की दलितो को सवर्णों का भय दिखाओ , सवर्णों को दलितोका भय दिखाओ , मुस्लिम को हिंदू का भय दिखाओ . मुस्लिम को आर एस एस का भयदिखाओ और हिन्दुओ को सिमी और लश्कर का भय दिखाओ .. और वोट हासिल करके इसदेश को जमकर लूटो .. 

एक तरफ कांग्रेस बाबा रामदेव के आन्दोलन को गलत बतारही है लेकिन मारीशस के साथ हुई टैक्स संधि जो कांग्रेस ने अपने नेताओ और राबर्ट बढेरा के फायदे के लिए की थी जिसको समाप्त करने के बाबा ने आन्दोलन किया उसे अब सरकार क्यो समाप्त करने जा रही है ? असल में अबकांग्रेस को एहसास हो गया की लाठी और गोली के दम पर आज तक पुरे विश्व मेंकही और किसी भी आवाज को दबाया नहीं जा सकता है बल्कि वो और भडकता है ............... naveen atrey  (naveenatrey@gmail.com)

बुधवार, 10 अगस्त 2011

रामदेव या अन्ना!

प्रश्न ये है की रामदेव और अन्ना दोनों ही एक अच्छे उदेश्य के लिए आन्दोलन कर रहे है! लेकिन दोनों की हीराहे एक दुसरे जे जुदा या अलग क्यों है! जहाँ शुरू मे बाबा रामदेव ने अन्ना का साथ दिया वन्ही अन्ना ने पहले ही दिन से बाबा के आन्दोलन से दूरी बना ली! क्योंकि उनके मंच पर कुछ सांप्रदायिक लोग पहुँच गए! जबकिबाबा के मंच पर ऐसे भी लोग थे जो एक अच्छे उदेश्य के लिए इकट्ठा हुए थे !


 और स्वतंत्र भारत मे सभी को अपनी राय देना का हक है चाहे वो धार्मिक हो या राजनातिक हो! आप किसी भी व्यक्ति की बहिष्कार इसलिए नहीं कर सकते की वो धार्मिक है या राजनातिक है! एक ही विषय पर एक ही संगठन के लोगो की बातें या उनकेविचार अलग हो सकते है लेकिन इसका मतलब ये नहीं है की संगठन को समाप्त ही कर दिया जाये !

अब बात करते है असली मुद्दों की, की रामदेव या अन्ना के आन्दोलन मे सबसे ज्यादा असरदार आन्दोलन किसका है !
१. रामदेव बात करते है काले धन पर, भ्रष्टाचार पर, स्वदेशी पर, स्व-रोजगार पर. जबकि अन्ना बात करते हैसिर्फ भ्रष्टाचार पर.
क्या भ्रष्टाचार को समाप्त करने से ये सभी समस्याएँ समाप्त हो जाएँगी, नहीं होंगी क्योंकि सिर्फ भ्रस्टाचार हटानेसे गरीबी दूर नहीं होगी.

२. रामदेव ने अपनी बात जो की आन्दोलन से जुडी हुई है देश के उस कोने तक पहुंचाई है जन्हा देश की आत्मा बस्ती है यानि की गाँव तक, जबकि अन्ना के आन्दोलन से जुड़ा हुआ है सिर्फ और सिर्फ शहरी व्यक्ति जो सिर्फ कभी-कभी इस भ्रष्ट तंत्र की चपेट मे आता है, जबकि ग्रामीण व्यक्ति हर रोज भ्रष्टाचार से आमना -सामना करता है.
क्या भ्रष्टाचार को समाप्त करने से गाँवो का विकास हो सकता है ! नहीं होगा क्योंकि इतने घोटाले करके जो पैसा विदेशो मे भेज दिया अगर वो देश मे आये तो कुछ हो सकता है !

३. अन्ना सिर्फ बात करते है भ्रस्टाचार पर रोक की लेकिन जो पैसा भ्रस्टाचार करके विदेशो मे भेज दिया क्या वो देश का नहीं है! क्या उस पर हम जैसे करोडो कर देने वालो का कोई हक नहीं है! रामदेव इसी पैसे की वापस लाकर इससे विकास करने की बात करते है और यही एक गलत बात है जो वो करते है क्योंकि सरकार ये नहीं चाहती की वो पैसा वापस आये.
क्या विकास कोई बुरी बात है क्या ये अच्छा नहीं होगा की हमारे देश मे कोई गरीब नहीं होगा ! कोई व्यक्ति रात की भूखा नहीं सोयेगा! हमारे देश के नन्हे बच्चो को मजदूरी नहीं करनी पड़ेगी.

४. किसी भी आन्दोलन को किसी धार्मिक संगठन के समर्थन दे देने से ये साबित नहीं हो सकता की वो आन्दोलन समाप्त हो जायेगा! हमारी आत्मा हमारे संस्कारो मे बसती है और अगर हम अपने संस्कारो को अच्छे से निर्वाह करे तो इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता की कौन समर्थन दे रहा है और कौन नहीं ! अन्ना अपने मंच से हिन्दू धार्मिक लोगो को भगा देते है भारत माता का चित्र हटा देते है और अपने मंच पर स्वागत करते है देश के विभाजन करने की बात करने वालो को, स्वागत करते है मओवादियो का समर्थन करने वालो का, समर्थन करते है एक धर्म विशेस को गलियां देने वाले लोगो को, अगर अन्ना को अपने आन्दोलन के लिए किसी की जरुरत ही नहीं थी खासकर हिंदूवादी सोच वालो के लिए तो फिर क्यों उन्होंने उन अधर्मियों की मंच पर जगह दी जो सिर्फ देश को बटने के कार्य करते है.

जबकि रामदेव ने सभी का आह्वान किया अपने आन्दोलन मे, सभी को सामिल किया किसी से जाती या धर्म नहीं पुछा गया, सिर्फ सहयोग माँगा गया उस आन्दोलन मे जो असलियत मे भारत की तस्वीर बदल देगा, बना देगा फिर से भारत को सोने की चिड़िया!मे व्यक्तिगत तौर पर न बाबा का समर्थक हूँ न अन्ना का विरोधी! लेकिन अगर बात मुद्दों की की जाये तो बाबा रामदेव के आन्दोलन मे वो आग थी जिससे सरकार को खुद एहसास हुआ की ये आग उसे जला देगी ! इसीलिए ४-४ मंत्री पहले अगवानी करते है फिर लाखो लोगो को रात को पिटवाते है! ये सिर्फ यही कहता है की सरकार को अगर डर है तो सिर्फ रामदेव के आन्दोलन से. अन्ना के आन्दोलन से कुछ फर्क नहीं पड़ता जिसके उद्हरण आप लोग देख ही चुके है संसद मे पेश सरकार की विधेयक और सरकार की मानसिकता आप देख चुके है आप की किस तरह से बाबा की परेशान किया जा रहा है हर रोज एक नया आरोप लगा दिया जाता है. 

अगर आप सोचते है की बाबा के पास इतनी दौलत है तो मे यही कहूँगा की बाबा ने इतनी इच्छा-शक्ति तो दिखाई की उन्होंने अपनी सम्पति को उजागर किया! क्या सरकार मे बैठे भ्रष्ट लोगो मे इतनी इच्छा-सकती है !मेरी दुआ है की बाबा और अन्ना जी एक मंच पर आये और इस भ्रस्ट तंत्र और इस भ्रस्ट सरकार से लोगो को निजात दिलाये. मे इस आन्दोलन मे बाबा और अन्ना के साथ हूँ.

जय हिंद.

Kuldeep Tyagi