आध्यात्मिक राष्ट्रवाद सदस्य

गुरुवार, 8 सितंबर 2011

गौहिंसा का विरोध आन्दोलन - (भारत स्वाभिमान)



भारत देश के करूणावान सज्जनों,
क्या आप कटती हुई गायों को बचाना चाहते हैं ..............?
निरीह गौधन पशुधन के साथ हिंसा का ताण्डव!!


द्रवित हो उठने वाले भारतवासियों,

उत्तर प्रदेश के बिजनेसमेन (कसाई-व्यापारीगण) अब गायों को काटने के लिए, आधुनिक स्वचालित  यांत्रिक कत्लखाने,  बहुत जल्द ही बनाने जा रहे है ताकि गायों को तीव्र गति से काटा जा सके, उनके मांस को विदेशों में निर्यात कर भारी लाभ कमाया जा सके | अगर ये लोग ऐसे क्रूर गोहिंसाग्रह स्थापित करने में कामयाब हो जाते है तो फिर पूरे भारत में इन कत्लखानो की बाढ़ ही आ जाएगी | सम्पूर्ण भारतवर्ष के लोग इन कत्लखानो को खोलने का पुरजोर विरोध कर रहे है और उत्तर प्रदेश की सरकार ने कहा है कि अगर एक करोड़ लोग भी कत्लखाने खोलने का विरोध  करते है तो  इन यांत्रिक स्वचालित पशुवधग्रह को खोलने की इजाजत  नहीं दी जाएगी| तो आईए इस निर्दयी कत्लखानों का तीव्र विरोध करें और इस आन्दोलन की हिमायत करें।

हम अहिंसा प्रधान इस देश के करूणावान नागरिक है।हम गायों की पूजा करते है | भारतीय होने के नाते और मानवता के नाते हम ऐसा होते हुए, हरगिज नहीं देख सकते ................ कृपया इस आन्दोलन को आप अपना समर्थन अवश्य दें |

अगर आपको लगता है कि इस तरह के कत्लखाने नहीं खुलने चाहिए तो कृपया  05223095743 पर एक मिस कोल जरूर करें| एक घंटी बजने के बाद कोल अपने आप डिस-कनेक्ट हो जाएगी |

जिस तरह से आपने अन्ना हजारे के जन लोकपाल बिल के आन्दोलन को सफल बनाया उसी तरह से आप मिस कॉल कर के इस कत्लखानों के विरोध आन्दोलन को अपना समर्थन दें |
इसमें आपका कोई खर्चा नहीं है, बल्कि आपके इस एक मिस कोल से प्रतिदिन कटने वाली हजारों लाखों गायें बच जाएगी |

कृपया आप अपने मोबाइल से मिस्कोल जरूर करें और इसे जितने लोगों तक पंहुचा सके पहुचाये |

मैने मिस कोल कर दिया है ............ अब आपकी बारी है ..................
अभी मिस कोल करे - नंबर है - 05223095743

2 टिप्‍पणियां:

  1. gau mata me 33 karor Devtaon ka vas hota hai!aaj Dhan ka lalchi Insaan janam dene wali mata ko bhi maar dalta hai? poora Samajik dhancha khraab ho chuka hai? Gaye ki raksha to ab Bhagwan shree krishan bhi?

    उत्तर देंहटाएं
  2. पञ्च दिवसीय दीपोत्सव पर आप को हार्दिक शुभकामनाएं ! ईश्वर आपको और आपके कुटुंब को संपन्न व स्वस्थ रखें !
    ***************************************************

    "आइये प्रदुषण मुक्त दिवाली मनाएं, पटाखे ना चलायें"

    उत्तर देंहटाएं

अभी और बहुत-सी महान उपलब्धियां और विजयोत्सव हमारी प्रतीक्षा में हैं